हर नई ख़बर आपके लिए

Search
Close this search box.

झारखंड मे हो रहा मिलावटी कोयले का अवैध कारोबार, चारकोल और छाई मिलकर तैयार किया जाता है

Praveen sharma/Hu: बोकारो जिले की दुग्धा रेलवे साइडिंग से करोड़ों के मिलावटी कोयले का अवैध कारोबार किया जा रहा है। पुलिस मुख्यालय की ओर से वहां छापेमारी के लिए भेजी गयी टीम की जांच पड़ताल में इसका खुलासा किया गया है। दरअसल, कोयले में छाई, चारकोल और पत्थर कोयला मिलाकर अवैध तरीके से कोयला तैयार किया जाता था। फिर इस कोयले को अच्छी क्वालिटी का बताकर मालगाड़ी से बाहर भेजा जाता था। यह कारोबार करोड़ों रुपये बताया जा रहा है।

पुलिस की टीम को ‘बीकेबी लॉजिस्टिक’ और ‘आर्का लॉजिस्टक’ की साइडिंग से करीब 72 हजार टन कोयला का कारोबार का माल मिला है। प्रति टन 8,600 रुपये के हिसाब से जाये, तो दोनों साइडिंग से मिले कोयले की कीमत तकरीबन 61.92 करोड़ रुपई होगी। छापेमारी के बाद की गयी कार्रवाई को लेकर पुलिस टीम ने एक रिपोर्ट तैयार किया है। इसके आधार पर दोनों ट्रांसपोर्ट कंपनियों के मालिक प्रमोद अग्रवाल, विनीत अग्रवाल, मनोज अग्रवाल उर्फ बीनू, मीनू अग्रवाल, नारायण अग्रवाल, धर्मेंद्र सिंह उर्फ भोला सिंह सहित अन्य अज्ञात ट्रक मालिकों और चालकों पर दुग्धा थाना में प्राथमिकी दर्ज की गई है।

रिपोर्ट के अनुसार, सूचना मिली थी कि बोकारो के बीकेबी रेलवे साइडिंग और आर्का रेलवे साइडिंग पर बाहर कोयला भेजने के नाम पर अवैध कोयला का कारोबार किया जा रहा था। इसी सूचना के आधार पर पुलिस मुख्यालय ने इंस्पेक्टर आभास कुमार के नेतृत्व में जांच के लिए दुग्धा रेलवे साइडिंग पर एक टीम भेजा गया था। जांच के दौरान बीकेबी रेलवे साइडिंग के प्वाइंट पर पूछताछ के क्रम में कोई भी संतोषप्रद जवाब नहीं मिला है। वहां के लोगों ने दबी जुबान के साथ जांच टीम को बताया कि साइडिंग में ट्रक से अच्छा कोयला लाया जाता है। फिर इसमें चारकोल, छाई तथा अन्य बहुत कम गुणवत्ता वाला कोयला मिलाकर मालगाड़ी में लोड कर बाहर भेज दिया जाता है। इस तरह खराब और मिलावटी कोयला बाहर भेजकर गुणवत्तापूर्ण कोयले का दाम वसूला जाता है।

Leave a Comment

Recent Post

Live Cricket Update

You May Like This